Breaking News
सीडब्ल्यूसी में हिस्सा लेते हैं बघेल, प्रदेश कांग्रेस की बैठकों में क्यों नही बुलाये जाते?  |  क्या राहुल गांधी को जमीनी नेता पसंद नही आते? क्या है राहुल का सियासी व्यक्तित्व? पड़ताल करती रिपोट  |  CG में सूखे की आशंका!:कृषि मंत्री चौबे ने बांधों से पानी छोड़ने कहा  |  78 लाख कैश के साथ 2 धरे गए, पूछताछ में पुलिस को गोलमोल जवाब  |  छत्तीसगढ़ के सहदेव के साथ बादशाह ने “बचपन का प्यार” का नया संस्करण पेश किया  |  चीन की सरकारी समाचार एजेंसी ने ओलंपिक में भारत के प्रदर्शन को लेकर तंज कसा   |  छत्तीसगढ़ में योजनाबद्ध तरीके से कराया जा रहा धर्मान्तरण !  |  छत्तीसगढ़ में हर 24 घंटे में 19 लोग कर रहे आत्महत्या  |  थाना नालेज पार्क पुलिस ने 04 वर्ष के बच्चे का अपहरण करने वाला अभियुक्त को गिरफ्तार किया तथा अपहरण हुए बच्चे को सकुशल परिजन को सुपुर्द किया।  |  जनप्रतिनिधियों के लिए उदाहरण है सुदरपुरा को सुंदर बनाने की मुहिम  |  
बस्तर न्यूज़
छतीसगढ़ सच 07/06/2021 :12:03
कोरोना से ब्रेक! फिर पीएम मोदी की चुनावी कसरत,अगले साल होने वाले चुनाव की तैयारी,मंत्रिमंडल विस्तार भी....
Total views 169
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बंगाल के अभियान के बाद कुछ दिनों तक तो रुके। कोरोना टॉप एजेंडे में आया। लेकिन अब फिर तैयारी चुनाव की है। यूपी सहित अगले साल प्रस्तावित चुनाव के लिए पीएम मोदी ने न सिर्फ मैराथन बैठके शुरू कर दी हैं। बल्कि अध्यक्ष के संग महासचिवों की बैठक में वर्चुअल सभाओं का ख़ाका अभी से तैयार करने को कह दिया है।

Written by Anjana

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बंगाल के अभियान के बाद कुछ दिनों तक  तो रुके। कोरोना टॉप एजेंडे में आया। लेकिन अब फिर तैयारी चुनाव की है। यूपी सहित अगले साल प्रस्तावित चुनाव के लिए पीएम मोदी ने न सिर्फ मैराथन बैठके शुरू कर दी हैं। बल्कि अध्यक्ष के संग महासचिवों की बैठक में वर्चुअल सभाओं का ख़ाका अभी से तैयार करने को कह दिया है। पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की छाया में संगठन चला रहे पार्टी अध्यक्ष जे पी नड्डा जल्द ही सबकुछ फाइनल कर लेंगे और फिर संभावित तीसरी लहर के पहले देखने को मिलेगी चुनावी गंगा का उफान।
मोदी और शाह की प्राथमिकता में सबसे ऊपर यूपी के चुनाव हैं। क्योंकि यूपी हाथ से गया तो मानो बहुत कुछ गया। पीएम मोदी हर हाल में यूपी की सत्ता बनाये रखने की रणनीति पर काम कर रहे हैं। अमित शाह की सक्रियता भी नजर आएगी। योगी और संगठन को लेकर चल रही चर्चाओं को जल्द पूर्ण विराम दिया जाएगा। 
हां पूरी कसरत के साथ ही मोदी मंत्रिमंडल का बहुप्रतीक्षित विस्तार भी संसद के मानसून सत्र से पहले देखने को मिल सकता है। प्रधानमंत्री ने इसके लिए भी जरूरी फीडबैक लिया है। कौन से नाम हो सकते हैं इसपर अगली खबर में चर्चा करेंगे। 
राजनीति की घमासान पर नजर बनाए रखिये।





Copyright @ chhattisgarh