भाजपा राजनीतिक विरोधियों की आवाज को कुचलने के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही: सीएम बघेल

0
103

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य में कांग्रेस नेताओं के परिसरों पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के छापे को राजनीति से प्रेरित बताया और कहा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस से डरती है और वह राजनीतिक विरोधियों की आवाज को कुचलने के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है। बघेल ने कांग्रेस पार्टी के राज्य मुख्यालय ‘राजीव भवन’ में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि उनका (भाजपा का) इरादा रायपुर में कांग्रेस के आगामी राष्ट्रीय अधिवेशन को प्रभावित करना है जहां इस वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव और 2024 के आम चुनावों के संबंध में चर्चा की जाएगी।

संवाददाता सम्मेलन में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) की महासचिव और राज्य प्रभारी कुमारी शैलजा, छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम, भूपेश मंत्रिमंडल के सदस्य और पार्टी के अन्य नेता भी मौजूद थे। अधिकारियों ने बताया कि ईडी ने कोयला लेवी मामले में जारी जांच के तहत सोमवार को कांग्रेस पार्टी के नेताओं के परिसरों सहित छत्तीसगढ़ में कई स्थानों पर तलाशी ली। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 24 से 26 फरवरी तक कांग्रेस का तीन दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन होना है। इससे पहले ईडी के छापे ने यहां राजनीतिक सरगर्मी बढ़ा दी है। बघेल ने कहा, कांग्रेस जब भी कोई बड़ा कदम उठाती है तब ऐसी हरकतें (केंद्रीय एजेंसियों द्वारा छापे) होती हैं। केंद्र सरकार कांग्रेस से डरी हुई है। जब कांग्रेस ने भारत जोड़ो यात्रा’ निकाली तो भाजपा घबराई हुई थी और अब वे रायपुर में होने वाले राष्ट्रीय अधिवेशन से डरने लगे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रीय अधिवेशन में बाधा डालने के लिए निम्न स्तर के हथकंडों का सहारा लिया है। बघेल ने कहा, लेकिन हम इस तरह के कार्यों से डरने वाले नहीं हैं और हम मजबूत बनकर उभरेंगे और इस आयोजन को भव्य रूप से सफल बनाएंगे। जब हम अंग्रेजों से नहीं डरते थे, तो हम उनसे (भाजपा) क्यों डरें। मुख्यमंत्री ने छापों को राजनीति से प्रेरित बताया और कहा कि राजनीतिक लाभ हासिल करने के लिए कार्रवाई की गई है। इससे पहले, बघेल ने एक ट्वीट में कहा था कि इस तरह के कार्यों से पार्टी के नेताओं का मनोबल कमजोर नहीं होगा, जो पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन की तैयारी में लगे हुए हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा था, छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष, पार्टी के पूर्व उपाध्यक्ष और एक विधायक सहित मेरे कई साथियों के घरों पर आज ईडी ने छापा मारा है। चार दिनों के बाद रायपुर में कांग्रेस का महाधिवेशन है। तैयारियों में लगे साथियों को इस तरह रोककर हमारे हौसले नहीं तोड़े जा सकते।

अडाणी की सच्चाई खुलने से भाजपा हताश : बघेल

मुख्यमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में कहा था, भारत जोड़ो यात्रा’ की सफलता से और अडाणी की सच्चाई खुलने से भाजपा हताश है। यह छापा ध्यान भटकाने का प्रयास है। देश सच जानता है। हम लड़ेंगे और जीतेंगे। संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कुमारी शैलजा ने भी केंद्र पर निशाना साधा और राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ दमनकारी नीति अपनाने का आरोप लगाया। कुमारी शैलजा ने कहा, ”नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार की दमनकारी नीतियों से यह स्पष्ट है कि वह विपक्ष, खासकर कांग्रेस से डरती है। वह विपक्ष को संसद के अंदर और बाहर अपनी आवाज नहीं उठाने दे रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि भिलाई (दुर्ग जिला) में विधायक देवेंद्र यादव, छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल, छत्तीसगढ़ राज्य भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष सुशील सन्नी अग्रवाल, पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता आरपी सिंह समेत अन्य नेताओं के एक दर्जन से अधिक ठिकानों पर आज सुबह से ही छापेमारी की जा रही है।

उन्होंने बताया कि ईडी उन लोगों की जांच कर रहा है जो वर्तमान सरकार के कार्यकाल के दौरान कथित कोयला लेवी घोटाले के लाभार्थी रहे हैं। ईडी ने कहा है यह जांच एक बड़े घोटाले से संबंधित है जिसमें वरिष्ठ नौकरशाहों, व्यापारियों, राजनेताओं और बिचौलियों से जुड़े समूह के द्वारा छत्तीसगढ़ में परिवहन किए गए प्रत्येक टन कोयले के लिए 25 रुपये की अवैध उगाही की जा रही थी। इस मामले में अब तक राज्य प्रशासनिक सेवा की अधिकारी चौरसिया, व्यवसायी सूर्यकांत तिवारी, उनके चाचा लक्ष्मीकांत तिवारी, छत्तीसगढ़ कैडर के आईएएस अधिकारी समीर विश्नोई और एक अन्य कोयला व्यवसायी सुनील अग्रवाल सहित नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here