सीएम भूपेश बघेल ने किसानों को गिनाए पैरादान के फायदे, पैरा नहीं जलाने की भी अपील

0
14

जांजगीर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पैरादान के फायदे गिनाते हुए किसानों से गौठानों में पैरादान करने की अपील करते हुए आज कहा कि इससे जहां प्रदूषण से मुक्ति मिलेगी वहीं मवेशियों के लिए चारे की भी व्यवस्था होगी। सीएम बघेल ने भेंट मुलाकात कार्यक्रम को दौरान सेमरा में आयोजित कार्यक्रम में यह अपील की। उन्होंने किसानों से कहा कि फसल कटाई के बाद पैरा नही जलाएं। इससे प्रदूषण बढ़ जाता है, जो हम सबके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। उन्होंने कहा कि किसानों के हित का ध्यान रखते हुए दीवाली के पहले राजीव गांधी किसान न्याय योजना, गोधन न्याय योजना और राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि श्रमिक न्याय योजना की राशि का वितरण किया है। इससे किसानों व श्रमिकों के चेहरे पर खुशहाली सहज ही देखने को मिली। बाजार की रौनक बढ़ने से व्यापार भी समृद्ध हुआ।

उन्होंने ग्रामीणों की मांग पर ग्राम धुरकोट में सहकारी बैंक, नवागढ़ के शासकीय नवीन महावद्यिालय का नाम लिंगेश्वर महादेव के नाम पर करने, लिंगेश्वर मंदिर का जीर्णोद्धार, नवागढ़ में आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल शुरू करने, शासकीय हाईस्कूल बुढ़ेना को आयुर्वेद रत्न डॉ. गुलाब सिंह के नाम पर करने की घोषणा की। इसी प्रकार ग्राम सेमरा साप्ताहिक बाजार में शेड व चबूतरा निर्माण, ग्राम कुटरा में हाईस्कूल में अतिरिक्त भवन व शौचालय, ग्राम औराई में सीसी रोड, ग्राम सलखन में मुक्तिधाम तक सीसी रोड बनवाने, ग्राम उदय भाठा के हाईस्कूल का उन्नयन करने और नगर पंचायत नवागढ़ में खेल मैदान की घोषणा की। मुख्यमंत्री से चर्चा करते हुए ग्राम अमोरा के किसान भरत पटेल ने बताया कि वे पहले मजदूरी करने जम्मू जाते थे।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना सहित अन्य योजनाओं का लाभ मिला तो दो साल से मजदूरी के लिए बाहर जाना नहीं पड़ा। उन्होंने आगे बताया कि ऋणमाफी और राजीव गांधी किसान न्याय योजना से उनकी आर्थिक स्थिति बेहतर हुई है। जिससे वे पिछले दो साल से बाहर मजदूरी करने नही जा रहे हैं। बल्कि यहीं खेती कर रहे हैं। उनका 10 हजार का कर्जमाफ हुआ है, 19 हजार का बोनस मिला है, गोधन न्याय योजना में गोबर बेचकर 20 हजार का लाभ मिला है। इस दौरान सूर्यांश इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में मुख्यमंत्री बघेल को किताबों से तौला गया। सीएम बघेल ने कहा कि अच्छी पुस्तकें बौद्धिक एवं व्यक्तित्व के विकास के साथ-साथ व्यक्ति में नव चेतना का संचार करती हैं। शिक्षा जीवन का आधार है और शिक्षा का आधार अच्छी पुस्तकें हैं। उन्होंने बच्चों को बेहतर शिक्षा और अच्छी पुस्तकों से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here