प्रधानमंत्री ने छत्तीसगढ़ में 34,427 करोड़ रूपए की 10 विकास परियोजनाओं का किया लोकार्पण और शिलान्यास

0
15

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ‘विकसित भारत विकसित छत्तीसगढ़ संकल्प यात्रा’ कार्यक्रम के दौरान छत्तीसगढ़ में 34,427 करोड़ रूपए की 10 विकास परियोजनाओं का शनिवार को डिजिटल माध्यम से लोकार्पण और शिलान्यास किया। अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने ‘विकसित भारत संकल्प यात्रा’ के तहत छत्तीसगढ़ के लिए 34, 427 करोड़ रूपए की 10 परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया जिनमें 18,897 करोड़ रूपए की लागत वाली नौ परियोजनाओं का लोकार्पण तथा 15,530 करोड़ रूपए लागत की एक परियोजना का शिलान्यास शामिल है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ने कोयला मंत्रालय के अंतर्गत रायगढ़ क्षेत्र में 173.46 करोड़ रूपए की ‘ओपन कास्ट परियोजना’ (ओसीपी) छाल कोल हैंडलिंग संयंत्र, दीपका क्षेत्र में 211.22 करोड़ रूपए की लागत के दीपका ओसीपी कोल हैंडलिंग संयंत्र, रायगढ़ क्षेत्र में 216.53 करोड़ रूपए की लागत के ओसीपी बरौद कोल हैंडलिंग संयंत्र लोकार्पण किया।

तीनों परियोजनाओं से ‘रैपिड लोडिंग सिस्टम’ (त्वरित लदान प्रणाली) के माध्यम से लदान के समय में कमी आएगी और ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन कम होगा। अधिकारियों ने बताया कि मोदी ने इसके साथ ही नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय के अंतर्गत 907 करोड़ रूपए की लागत से राजनांदगांव जिले के नौ गांवों के 451 एकड़ क्षेत्र में निर्मित 100 मेगावाट एसी/155 मेगावाट डीसी सौर ऊर्जा परियोजना का लोकार्पण किया। उन्होंने बताया कि मोदी ने सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अंतर्गत 1,007 करोड़ रूपए की दो परियोजनाओं-अंबिकापुर से शिवनगर तक 52.40 किलोमीटर लंबाई की सड़क और बनारी से मसनियाकला तक 55.65 किलोमीटर लंबी सड़क (राष्ट्रीय राजमार्ग-49) का लोकार्पण किया। उन्होंने ऊर्जा मंत्रालय के अंतर्गत 15,799 करोड़ रूपए की परियोजना- ‘लारा सुपर क्रिटिकल थर्मल पॉवर संयंत्र-चरण एक’ का लोकार्पण भी किया। यह परियोजना छत्तीसगढ़ राज्य के रायगढ़ जिले में स्थित है और ‘सुपरक्रिटिकल’ (सुपरक्रिटिकल बिजली संयंत्र पानी के महत्वपूर्ण बिंदु से ऊपर के तापमान और दबाव पर काम करते हैं) प्रौद्योगिकी पर आधारित हैं।

अधिकारियों ने बताया कि साथ ही मोदी ने रेल मंत्रालय के अंतर्गत 583 करोड़ रूपए की दो परियोजनाओं का लोकार्पण किया जिसमें 280 करोड़ रूपए की लागत से भिलाई में 50 मेगावाट सौर ऊर्जा संयंत्र और 303 करोड़ रूपए की लागत से बिलासपुर-उसलापुर फ्लाईओवर का लोकार्पण शामिल है। सौर ऊर्जा संयंत्र की स्थापना से रेलगाड़ियां चलाने के लिए सौर ऊर्जा का उपयोग किया जा सकेगा और हरित ऊर्जा को बढ़ावा मिलेगा। अधिकारियों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान ऊर्जा मंत्रालय के अंतर्गत रायगढ़ में ‘लारा सुपर क्रिटिकल थर्मल पावर संयंत्र चरण-दो’ का शिलान्यास किया। यह परियोजना क्षेत्र में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार के अवसर पैदा करेगी। यह परियोजना आस-पास के क्षेत्र में अधोसंरचना विकास और सामाजिक अधोसंरचना की उपलब्धता में और सुधार करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here