छत्तीसगढ़ में महिलाओं के खिलाफ अपराध के आरोपी अब नहीं कर सकेंगे सरकारी नौकरी : मुख्यमंत्री बघेल

0
65

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर कहा कि महिलाओं के साथ बलात्कार, छेड़छाड़ और अन्य अपराध के आरोपियों को राज्य में सरकारी नौकरियों से प्रतिबंधित किया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 77वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राजधानी रायपुर के पुलिस परेड मैदान में ध्वजारोहण किया तथा स्कूली पाठ्यक्रम में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग को शामिल करने तथा राज्य में सरकारी कॉलेज के छात्रों के लिए मुफ्त बस सुविधा देने समेत 15 नई घोषणाएं कीं। बघेल ने कहा, महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान एवं उनकी अस्मिता बनाये रखना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। हम निर्णय लेने जा रहे हैं कि बालिकाओं एवं महिलाओं से छेड़छाड़, दुष्कर्म आदि के आरोपियों को शासकीय नौकरियों से प्रतिबंधित किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा, नवा (नया) छत्तीसगढ़ गढ़ने में आधुनिक प्रौद्योगिकी की भूमिका को देखते हुये अगले शिक्षा सत्र से स्कूली बच्चों के पाठ्यक्रम में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स जैसी अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी की जानकारी शामिल की जाएगी जिससे हमारे बच्चे भविष्य की तकनीक के लिये अभी से तैयार हो सकें और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विश्व का नेतृत्व करने योग्य बन सकें।

उन्होंने कहा राज्य के दूरस्थ क्षेत्रों के सरकारी स्कूलों के 11वीं और 12वीं कक्षा के विद्यार्थी इंजीनियरिंग और मेडिकल की प्रतियोगी परीक्षाओं की बेहतर तैयारी कर सकें इसके लिये देश के ख्याति प्राप्त कोचिंग संस्थाओं से ऑनलाइन कोचिंग निःशुल्क कराने की व्यवस्था की जाएगी। यह व्यवस्था सभी विकासखंड मुख्यालयों में की जायेगी। बघेल ने इस अवसर पर शासकीय महाविद्यालयों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को घर से कॉलेज और कॉलेज से घर आने जाने के लिये निःशुल्क बस परिवहन सुविधा उपलब्ध कराने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने राज्य के निर्माण श्रमिकों के लिये मुख्यमंत्री निर्माण श्रमिक पेंशन सहायता योजना प्रारंभ करने की घोषणा की। निर्माण कार्य करने वाले 60 वर्ष से अधिक उम्र के तथा 10 साल तक पंजीकृत रहे मजदूरों को जीवन पर्यंत 1500 रूपये मासिक पेंशन दी जायेगी।

बघेल ने राज्य के साहित्यकारों को तीन श्रेणियों में छत्तीसगढ़ साहित्य अकादमी सम्मान दिये जाने की घोषणा भी की। पहला सम्मान छत्तीसगढ़ी और अन्य बोली जैसे गोंडी, हल्बी, सरगुजिया, कुरुख आदि में लिखे गये साहित्य के लिये होगा। दूसरा सम्मान हिंदी में लिखे गये पद्य के लिये तथा तीसरा सम्मान हिंदी में लिखे गये गद्य के लिये दिया जायेगा। हर श्रेणी में सम्मानित साहित्यकारों को पांच लाख रूपए नगद और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाएगा। उन्होंने कहा, छत्तीसगढ़िया ओलंपिक की राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में लंबी कूद, 100 मीटर दौड़ और कुश्ती में 18 से 40 वर्ष के आयु वर्ग में प्रथम स्थान पाने वाले प्रतिभागियों को उत्कृष्ट खिलाड़ी घोषित किया जाएगा। यह प्रावधान इसी वर्ष से लागू किये जायेंगे।

बघेल ने राज्य में मछली पालन और लाख पालन को कृषि का दर्जा दिये जाने के सकारात्मक परिणामों को देखते हुए अब रेशम कीट पालन और मधुमक्खी पालन को भी कृषि का दर्जा देने की घोषणा की। उन्होंने राज्य में कुक्कुटपालन को प्रोत्साहित करने, नए रोजगार और स्वरोजगार के अवसर सृजित किये जाने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ कुक्कुटपालन प्रोत्साहन योजना शुरू करने की घोषणा की। इस योजना के अंतर्गत कुक्कुट पालकों को सब्सिडी तथा वाणिज्यिक दर के स्थान पर अब रियायती दर पर बिजली उपलब्ध करायी जाएगी। बघेल ने कहा, राज्य के सभी जिलों में कम से कम एक कॉलेज में स्नातकोत्तर कक्षाओं में अध्ययन की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। इसी क्रम में नवनिर्मित जिला सारंगढ़-बिलाईगढ़ मुख्यालय में संचालित शासकीय लोचनप्रसाद पाण्डे महाविद्यालय सारंगढ़, जिला गौरेला-पेंड्रा-मरवाही मुख्यालय में संचालित डॉ भंवर सिंह पोर्ते महाविद्यालय पेंड्रा, जिला सक्ती मुख्यालय में संचालित क्रांति कुमार भारतीय महाविद्यालय सक्ति और जिला मोहला-मानपुर-अंबागढ़ चौकी में संचालित शासकीय एलसीएस महाविद्यालय अंबागढ़ चौकी को स्नातकोत्तर विद्यालय का दर्जा दिया जाएगा। इसके लिये आवश्यक नवीन विषय और पद संरचना इन महाविद्यालयों को शीघ्र उपलब्ध करा दी जायेगी।

बघेल ने कहा, राज्य के जिन क्षेत्रों में छत्तीसगढ़ी भाषा बोली जाती है वहां छत्तीसगढ़ी भाषा एवं आदिवासी क्षेत्रों में वहां की स्थानीय बोली को, अगले शिक्षा सत्र से पहली से पांचवी कक्षा तक पाठ्यक्रम में एक विषय के रूप में शामिल किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा ”शहरी स्वच्छता दीदियों के उत्कृष्ट कार्यों को देखते हुये उनका मानदेय 20 प्रतिशत बढ़ाया जाएगा। उनके उत्कृष्ट कार्यों के कारण ही हमारे राज्य ने लगातार तीन बार देश का स्वच्छतम् राज्य होने का गौरव हासिल किया है। उन्होंने शहरी आजीविका के क्षेत्र में कार्यरत सामुदायिक संगठकों के उत्कृष्ट कार्यों को देखते हुये उनका मानदेय 20 प्रतिशत बढ़ाने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री बघेल ने राज्य के औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थाओं में कार्यरत संविदा प्रशिक्षण अधिकारियों के एकमुश्त संविदा वेतन को 25,780 रूपए से बढ़ाकर प्रतिमाह 32,740 रूपए करने तथा मेहमान वक्ताओं के प्रतिमाह अधिकतम भुगतान की सीमा को 13,000 रूपए से बढ़ाकर 15,000 रूपए करने की घोषणा की। उन्होंने छत्तीसगढ़ में शिक्षा सुविधाओं में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने वाले अंशकालीन सफाई कर्मियों और मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम से जुड़े रसोइयों के मानदेय में पांच सौ रूपए प्रतिमाह वृद्धि किये जाने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर राज्य की जनता को बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में एक नया सफर शुरू हुआ है, जिसमें ”नवा छत्तीसगढ़” गढ़ने का संकल्प पूरा करने का काम जारी है जिसकी वजह से प्रदेश में हर जगह खुशहाली आई है। छत्तीसगढ़ में इस वर्ष के अंत तक विधानसभा चुनाव होंगे। मुख्यमंत्री बघेल की घोषणाओं को चुनाव की दृष्टि से महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here