राहुल गांधी ने ईस्ट इंडिया कंपनी से की अडाणी की तुलना, बोले-सवाल उठाते रहेंगे

0
52

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अडाणी से जुड़े मामले को लेकर रविवार को भारतीय जनता पार्टी पर तीखा प्रहार किया और इस कारोबारी समूह की तुलना अंग्रेजों के समय की ‘ईस्ट इंडिया कंपनी’ से करते हुए कहा कि इस पूरे प्रकरण की सच्चाई सामने आने तक उनकी पार्टी सवाल उठाती रहेगी। ‘भारत जोड़ो यात्रा’ को मिली प्रतिक्रिया से उत्साहित कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे को भी ऐसा कोई कार्यक्रम तय करना चाहिए ताकि ‘तपस्या’ को आगे बढ़ाया जा सके। राहुल गांधी कई मौकों पर अपनी यात्रा को ‘तपस्या’ कह चुके हैं। अपने इस ताजा बयान से उन्होंने इस तरह की एक अन्य यात्रा का संकेत दिया।

अडाणी समूह से जुड़े मुद्दे को लेकर सरकार पर निशाना साधते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि पूरी दौलत हड़प कर अडाणी देश के खिलाफ काम कर रहे थे। उन्होंने पार्टी के 85वें अधिवेशन में संबोधन के दौरान कहा, “जब हमने संसद में पूछा कि प्रधानमंत्री का अडाणी से क्या संबंध है तो हमारा पूरा भाषण कार्यवाही से हटा दिया गया। हम संसद में एक बार नहीं, हजारों बार सवाल पूछेंगे। हम सवाल पूछते रहेंगे, जब तक अडाणी जी का सच सामने नहीं आता, हम रुकेंगे नहीं। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने आरोप लगाया, मैं अडाणी को बताना चाहता हूं कि उनकी कंपनी देश को ‘नुकसान’ पहुंचा रही है और ‘देश की पूरी अवसंरचना को हड़प’ रही है। उन्होंने कहा, देश की आजादी की लड़ाई एक कंपनी के खिलाफ थी, जिसका नाम ईस्ट इंडिया कंपनी था क्योंकि उसने देश की समूची दौलत और बंदरगाहों आदि पर कब्जा कर लिया था।

राहुल ने कहा, “इतिहास दोहराया जा रहा है। यह देश विरोधी काम है और अगर ऐसा होता है तो पूरी कांग्रेस पार्टी इसके खिलाफ खड़ी होगी। उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी ”प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अडाणी के संबंधों पर सवाल पूछती रहेगी। हिंडनबर्ग रिसर्च ने अडाणी समूह के खिलाफ फर्जी तरीके से लेनदेन और शेयर की कीमतों में हेरफेर सहित कई आरोप लगाए थे। अडाणी समूह ने इन आरोपों को झूठा करार देते हुए कहा कि उसने सभी कानूनों और प्रावधानों का पालन किया है। कांग्रेस नेता ने दावा किया कि कांग्रेस के लोग सत्याग्रही हैं, जबकि भाजपा-आरएसएस के लोग सत्ताग्रही हैं। राहुल गांधी ने महाधिवेशन में कहा कि नरेंद्र मोदी ने श्रीनगर में भाजपा के महज 15-20 लोगों के साथ तिरंगा फहराया था, लेकिन हमने कश्मीर के लाखों युवाओं के जरिये तिरंगा फहराया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने यात्रा के जरिये कश्मीर के लोगों में तिरंगे के प्रति भावना पैदा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here