छत्तीसगढ़ के मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम ने इस्तीफा दिया, मरकाम होंगे नए मंत्री

0
53

छत्तीसगढ़ के स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम ने बृहस्पतिवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उनके स्थान पर बुधवार को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए गए मोहन मरकाम राज्य सरकार के नए मंत्री होंगे, जिन्हें शुक्रवार को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलायी जायेगी। टेकाम के मुताबिक उनसे इस्तीफा मांगा गया है और उन्होंने प्रक्रिया का पालन किया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया कि मरकाम शुक्रवार को मंत्री पद की शपथ लेंगे। टेकाम ने बृहस्पतिवार को संवाददाताओं से बातचीत के दौरान कहा, मंत्रिमंडल में किसी को रखना और किसी को नहीं रखना यह मुख्यमंत्री के विवेकाधिकार पर निर्भर करता है। मुझे कहा गया कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का निर्देश है कि आपको इस्तीफा देना है। मैने प्रक्रिया का पालन किया है।

उन्होंने कहा, संगठन और मंत्रिमंडल में फेरबदल चलते रहता है। यह संगठन और पार्टी की प्रक्रिया है। चुनाव में काम करना है। पार्टी का जो निर्देश होगा उसमें काम करना है। जब उनसे पूछा गया कि पार्टी इस बार उनकी टिकट भी काट सकती है तब उन्होंने कहा, किसे टिकट मिलेगा, किसका कटेगा यह अलग बात है लेकिन पार्टी हित में काम करना है। टेकाम के इस्तीफे को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है, प्रेमसाय सिंह टेकाम जी का इस्तीफा स्वीकृत किया गया है। मोहन मरकाम जी कल शपथ लेंगे। राजभवन को पत्र भेज दिया गया है, जैसे ही वहां से समय निर्धारित होगा उसके हिसाब से शपथ ग्रहण होगा।

प्रदेश के वरिष्ठ आदिवासी नेता टेकाम (69) राज्य के सरगुजा इलाके अंतर्गत प्रतापपुर विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं और वह प्रतापपुर अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है। टेकाम 1980 में वह पहली बार अविभाजित मध्यप्रदेश विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए थे, तथा 2018 में छठवीं बार विधानसभा के लिए चुने गए। बुधवार को मोहन मरकाम की जगह सांसद दीपक बैज को छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाए जाने के बाद आज टेकाम ने इस्तीफा दे दिया। अटकलें लगाई जा रही थी कि मरकाम को बघेल मंत्रिमंडल में शामिल किया जाएगा और मुख्यमंत्री ने मरकाम को मंत्री बनाए जाने की घोषणा कर दी।

आदिवासी नेता मरकाम (56) बस्तर क्षेत्र के कोंडागांव विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। वह 2013 में पहली बार तथा 2018 में दूसरी बार छत्तीसगढ़ विधानसभा के लिए निर्वाचित हुये थे। राज्य में 2018 में कांग्रेस की सरकार का गठन होने के बाद 2019 में मरकाम को प्रदेश कांग्रेस की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। भूपेश मंत्रिमंडल में बदलाव को लेकर नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल कहा है, कांग्रेस में हिटलरशाही हावी है। मंत्रियों से इस्तीफा लिया जा रहा है। कांग्रेस की अंतर कलह की पराकाष्ठा हो चुकी है। कांग्रेस का जाना तय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here